दिल्ली सुखनवरों का है मरकज़ मगर मियां, उर्दू के कुछ चिराग़ तो पंजाब में भी हैं - जतिन्दर परवाज़

सोमवार, जून 21, 2010

Comments of Dr. Malikzada Manzoor Ahmed for Jatinder Parwaaz

video

3 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

Sorry for my bad english. Thank you so much for your good post. Your post helped me in my college assignment, If you can provide me more details please email me.

नीरज गोस्वामी ने कहा…

इतने अजीम शायर के आपके बारे में अलफ़ाज़ सुन कर खुशी हुई...आप ऐसे ही तरक्की करते रहें...

नीरज

Vinay Prajapati ने कहा…

नववर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...